नाड़ी वैद्य से कराइये जांच 13 अगस्‍त को वन मड़ई में

राजधानी रायपुर के शासकीय विज्ञान महाविद्यालय के मैदान में रविवार 13 अगस्त से शुरू हो रहे तीन दिवसीय वन मड़ई में छत्तीसगढ़ के लगभग 250 हर्बल चिकित्सक भी शामिल होंगे। उनके द्वारा अपने परम्परागत ज्ञान और जड़ी-बूटियों तथा अन्य महत्वपूर्ण वनौषधियों के जरिए जरूरतमंद मरीजों का इलाज किया जाएगा। छत्तीसगढ़ राज्य वनौषधि बोर्ड द्वारा उन्हें वन मड़ई में उन्हेें आमंत्रित किया गया है। बोर्ड के अधिकारियों ने आज यहां बताया कि उन्होंने वन मड़ई में लगभग 20 प्रख्यात नाड़ी वैद्यों को भी आमंत्रित किया है। इस आयोजन में वनौषधि बोर्ड द्वारा स्टाल लगाकर अपनी योजनाओं और उपलब्धियों की भी जानकारी दी जाएगी। बोर्ड के स्टाल में राज्य के दूर-दराज गांवों से आने वाले विशेषज्ञ हर्बल चिकित्सक और नाड़ी वैद्य जनता को अपनी सेवाएं देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *