राज्य सरकार संस्कृत भाषा के संरक्षण और संवर्धन के लिए वचनबद्ध: श्री केदार कश्यप

स्कूल शिक्षा मंत्री शामिल हुए ‘प्रदेशव्यापी संस्कृत सप्ताह समापन समारोह’ में

रायपुर, 10 अगस्त 2017. स्कूल शिक्षा और आदिम जाति विकास मंत्री श्री केदार कश्यप आज यहां शासकीय शिक्षा महाविद्यालय में आयोजित प्रदेशव्यापी संस्कृत सप्ताह के समापन समारोह में शामिल हुए। मुख्य अतिथि की आसंदी से समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि संस्कृत सिर्फ भारत की ही नहीं बल्कि विश्व की सबसे प्राचीन भाषा है। राज्य सरकार संस्कृत भाषा के संरक्षण और संवर्धन के लिए वचनबद्ध है।



श्री कश्यप ने कहा कि छत्तीसगढ़ संस्कृत विद्यामंडलम् के माध्यम से संस्कृत भाषा के विकास के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। संस्कृत सप्ताह का आयोजन छत्तीसगढ़ संस्कृत विद्यामंडलम् और संस्कृत भारती छत्तीसगढ़म् द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। समापन समारोह की अध्यक्षता छत्तीसगढ़ साहित्य अकादमी के कार्यकारी अध्यक्ष आचार्य श्री रमेन्द्रनाथ मिश्र ने की। विद्यान्त हिन्दू स्नातकोत्तर कॉलेज लखनऊ के संस्कृत विभागाध्यक्ष डॉ. विजय कुमार कर्ण विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे।
आचार्य श्री रमेन्द्रनाथ मिश्र ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कहा कि संस्कृत एक सशक्त भाषा है, जिसमें ज्ञान-विज्ञान का अथाह भण्डार है। डॉ. विजय कुमार कर्ण ने कहा कि वे छत्तीसगढ़ में संस्कृत शिक्षा के प्रचार और भाषा के विकास से काफी प्रभावित हुए हैं। उन्होंने कहा कि यहां संस्कृत भाषा में शिक्षा के लिए एक विश्वविद्यालय की स्थापना भी की जानी चाहिए।



छत्तीसगढ़ संस्कृत विद्यामंडलम् के अध्यक्ष स्वामी परमात्मानंद ने स्वागत भाषण दिया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के सहयोग से छत्तीसगढ़ संस्कृत विद्यामंडलम् उत्तरोत्तर प्रगति पर है। प्रदेश में संस्कृत विद्यालयों और संस्कृत के विद्यार्थियों की संख्या निरंतर बढ़ती जा रही है। हमें इस भाषा के सम्यक् ज्ञान के क्षेत्र में आगे आना होगा। कार्यक्रम के अंत में आभार प्रदर्शन शासकीय शिक्षक शिक्षा महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. योगेश शिवहरे ने किया। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ संस्कृत विद्यामंडलम् के पूर्व अध्यक्ष डॉ. गणेश कौशिक, सांई जलकुमार मसंद सहित बड़ी संख्या में संस्कृत के विद्वान और प्रबुद्ध जन उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन छत्तीसगढ़ संस्कृत विद्यामंडलम् के सचिव डॉ. सुरेश कुमार शर्मा ने किया।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *