विशेष केन्द्रीय सहायता : आदिवासी बच्चों के लिए 28 छात्रावासों और 05 कन्या शिक्षा परिसरों का होगा निर्माण: राज्य सरकार ने दी 466 करोड़ प्रशासकीय मंजूरी

रायपुर, 18 जून 2017, आदिवासी बच्चों के लिए छत्तीसगढ़ में 28 छात्रावास भवनों और पांच कन्या शिक्षा परिसरों के निर्माण के लिए लगभग 466 करोड़ रूपए मंजूर किए गए हैं। आदिम जाति और अनुसूचित जाति विकास विभाग ने यहां मंत्रालय (महानदी भवन) से इनके निर्माण के लिए इस राशि की प्रशासकीय स्वीकृति का आदेश जारी कर दिया है। अधिकारियों को इन सभी भवनों का निर्माण संबंधित एजेंसियों के जरिये 18 महीनों के भीतर पूर्ण करने के निर्देश दिए गए हैं।
ये छात्रावास भवन और कन्या शिक्षा परिसर अनुसूचित जनजाति वर्ग के बच्चों के लिए संविधान के अनुच्छेद 275 (1) और विशेष केन्द्रीय सहायता-1 आदिवासी उपयोजना मद से वर्ष 2014-15 और 2015-16 में मंजूर किए गए हैं। विकासखंड स्तर पर बनने वाले प्रत्येक छात्रावास भवन 500 सीटों का होगा। इनमें से बालकों के लिए 250 और बालिकाओं के लिए 250 सीटों का भवन निर्माण किया जाएगा। जिन छात्रावास भवनों के लिए राशि की स्वीकृति दी गई है, उनका निर्माण सुकमा, बीजापुर, जगदलपुर, बस्तर (भानपुरी) बकावण्ड, बास्तानार, केशकाल, फरसगांव, गीदम, कोन्टा, भैरमगढ़ और नरहरपुर, कोण्डागांव, कांकेर, जशपुर, अंबिकापुर, सूरजपुर, कोरबा, धरमजगढ़, गौरेला, नगरी, नारायणपुर, ओरछा (नारायणपुर), चौकी (राजनांदगांव), बैकुण्ठपुर (कोरिया), खरसिया, रामानुजगंज और प्रतापपुर, में किया जाएगा। कन्या शिक्षा परिसरों का निर्माण भोरमदेव (कबीरधाम), बीजापुर, सुकमा, भानपुरी और बहिगांव में किया जाएगा। 
प्रत्येक 500 सीटों वाले छात्रावास के प्रोजेक्ट के लिए 14 करोड़ 57 लाख 12 हजार रूपए और प्रत्येक कन्या शिक्षा परिसर निर्माण के लिए 11 करोड़ 61 लाख 26 हजार रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति दी गई है। प्रशासकीय स्वीकृति का आदेश पिछले महीने की 31 तारीख को जारी किया गया है। 
Share on Google Plus

About Sanjeeva Tiwari

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment
इस समाचार को छत्‍तीसगढ़ी में पढ़ें ..